hindivishwa.in>> Hamleys Toys Shop
Hamleys Toys Shop
Hamleys Toys Shop

हैम्लेज ग्लोबल होल्डिंग्स लिमिटेड (Hamleys Global Limited) को खरीदने का  ऐलान मुकेश अंबनी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज की सहायक कंपनी रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड (Reliance Brand Limited) ने किया है |

हैम्लेज कंपनी क्या है ? वों क्या बनती है ? आइये हम Hamleys Toys Shop इस लेख में कंपनी के बारेमे जानकारी लेते है |

हैम्लेज का इतिहास  – history of Hamleys Toys Shop

हैम्लेज कंपनी की स्थापना १७६० में हुई थी याने आज से ठीक २५९ साल पहले ये कंपनी बनी थी | ये विश्व की सबसे बड़ी और सबसे पुराने खिलोनों का शॉप है |

इसका नाम विलियम हैमली के नाम पर रखा गया है | द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, इस स्टोर पर पांच बार बमबारी की गई थी ।

विश्व में हैम्लेज के १८ देशोमे १६७ स्टोर है |

हैम्लेज कम्पनी ५० हजार से भी ज्यादा वैरायटी के खिलोने रखती है |

ये लंदन का एक प्रमुख टूरिस्ट स्थल भी है और पूरी दुनिया से लोग इस टॉय स्टोर को देखने और इस में खरीदारी करने के लिए आते हैं |

हैम्लेज के स्टोर कहा कहा पर है ?

हैम्लेज के ३ स्टोर डेनमार्क में मौजूद थे |

२००८ से आयरलैंड और ३५००० वर्ग फूट का स्टोर डबलिन में खोला |

२०१३ को नोर्वे में डिपार्टमेंट स्टोर के रूप में स्टोर खोला गया |

१८ जून २००८ में हैम्लिज ने अपना पहला कदम यूरोप के बाहर रखा | अम्मान , जॉर्डन में अपना पहला स्टोर चालू किया |

४ नोवेम्बर २००८ को दो स्टोर के साथ एक दुबई फ्रैंचाइज़ी खोली गई |

९ अप्रैल २०१० को भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में २२००० वर्ग फूट का स्टोर खोला गया |

भारत में दूसरा स्टोर चेन्नई में है |

इस  के साथ, अब पूरे भारत के 50 स्टोर 26 शहरों में मौजूद है। गुजरात में, Hamleys ने 9 नवंबर 2014 को 11,000 वर्गफुट के साथ अहमदाबाद वन मॉल में अपना पहला स्टोर खोला।

मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 9 मई 2019 को घोषणा की कि उसने 67.96 मिलियन पाउंड (लगभग 620 करोड़ रुपये) के लिए प्रतिष्ठित ब्रिटिश खिलौना-निर्माता का अधिग्रहण किया है

रिलायंस ब्रांड्स के प्रेसिडेंट और सीईओ दर्शन मेहता ने कहा कि बीते कुछ सालों में हमने भारत में हैम्लेज ब्रांड के तहत खिलौनों की रिटेल बिक्री में काफी सफलता हासिल की है | 

हम भारतीयोंको अब अभिमान होंगा की दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे पुरानी खिलोनों की कम्पनी Hamleys Toys Shop भारतवासी चला रहे है |

अन्य पढ़े

वास्को द गामा

निम्बु का महत्व

रतन टाटा