ये कहानी है एक ऐसी महिला की जिसका नाम सुनकर हर हिंदु और भारतीय का सिर उंचा होगा | अमेरिका में प्रथम हिंदु कांग्रेस सदस्य तुलसी गबार्ड ने भगवद्गीता की शपथ ली | First Hindu Member Of United States Tulsi Gabbard इस लेख में हम उनके बारेमे जानकारी लेंगे |

तुलसी गब्बार्ड के श्रध्दास्थान

अमेरीकामे कांग्रेस के लिये नवनिर्वाचित तुलसी गबार्ड ने हिन्दुओंका पवित्र धर्मग्रंथ भगवद्गीता पर हाथ रखकर पद  एवम् गोपनीयता की शपथ ली |

उन्होंने कहा मेरी जिन्दगी की कई कठीन चुनौतियों के दौरान भगवद्गीता शान्ति और शक्तिका बड़ा स्त्रोत रही है |

First Hindu Member Of United States Tulsi Gabbard
First Hindu Member Of United States Tulsi Gabbard

तुलसीजीने कहा मेरी माँ हिंदु है (इनकी माँ कोनेशियन होकर उन्होंने  हिंदु धर्म का स्वीकार किया था  ) और पिता कैथोलिक है | मैंने शुरुवातसेही अध्यात्मिकता के सवालोंसे जुज़ना शुरू कर दिया था | भारत मे आकर और  वृंदावन में जाकर दर्शन लेने की इच्छा उन्होनें प्रकट की थी |

अमरीकाकी पहली हिंदु सांसद तुलसी गबार्ड 2020 में होने वाले राष्ट्रपती चुनाव में उतर सकती है |

अगर वह राष्ट्रपती चुनाव में उतरती है तो वह इस दौड़ में शामिल होने वाली पहली हिंदु उम्मीदवार होगी | 

तुलसी गब्बार्ड का परिचय – Tulsi Gabbard Education

  इनकी माता पिता का नाम Mike Gabbard और Carol Porter है | तुलसीजी ने २००२ में एडवर्डो तामायो इनके साथ विवाह किया था लेकिन बादमे २००६ में वे दोनों अलग हो गये | २०१५ में    उन्होंने अब्राहम विल्यम इनके साथ विवाह किया और वों भी वैदिक पद्धतियों के अनुसार किया |

तुलसी गबार्ड इनका जन्म १२ अप्रैल १९८१ में लेलोलो ( संयुक्त राज्य अमेरिका )हुआ | इनकी शिक्षा Hawaii Pacific University में हुई है | वह संयुक्त राज्य सेना में मेजर के स्थान पर २००४ से कम कर रही है |

   जानेमाने स्वामी प्रभूपादजी इनकी तुलसीजी शिष्या है | वह भक्तिवेदांत इस आश्रम में सेवा करती है | तुलसीजी पूरी तरहसे शाकाहार (vej) आहार लेती है | भगवद्गीता को अध्यात्मिक मार्गदर्शक माननेवाली तुलसीजी कर्मयोग पर विश्वास रखती है | तुलसीजी के भाई बहन इनका नाम जय, नारायण, वृन्दावन, भक्ती ऐसे है |

तुलसी गबार्ड प्रधानमंत्री मोदीजी की पहली अन्तर्राष्ट्रीय योगदिवस की समर्थक रही है |

 २०१४ में भारतके प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी इनसे मुलाकात होने के बाद उन्होंने अपने facebook post में लिखा था की

 ऐसे कहा जाता है की अगर हमे किसी को कुछ देना है तो कुछ ऐसी बड़ी  चीज देनी चाहिए जो खुद को बहुत पसंद है | इसलिये मै आज पंतप्रधान मोदिजीको मेरी तरफसे भगवद्गीता  भेट दी है |

   अमरिकाने जब मोदिजीको visa देनेसे इनकार किया था तब तुलसीजी ने उसके खिलाफ आवाज़ उठाया था |

पाकिस्तानके बारेमे उनका मत भी भारतियोको अच्छा लगेगा ऐसाही है | उनका यह कहना है की पाकिस्तानकी शासन व्यवस्था पिछले कई सालोंसे दहशदवादियोको सपोर्ट करने वाली और उनको प्रोत्साहन देनेवाली है | पाकिस्तान पुरस्कृत दहशदवादी हमले सारी दुनियाके लिये कुछ नयी बात नहीं है | पिछले १५ बरससे इन सबका प्रमाण तेजीसे बढ़ रहा है  और ये सब रुकना चाहियें |

First Hindu Member Of United States Tulsi Gabbard ये लेख आपको कैसे लगा ये हमें जरुर बताइए

अन्य लेख

रतन टाटा

एपीजे अब्दुल कलाम