Avani Chaturvedi Motivational Stories In Hindi For Students

 Avani Chaturvedi Motivational Stories In Hindi For Students

Avani Chaturvedi

 

Avani Chaturvedi Motivational Stories In Hindi For Students  इस लेख में अवनी चतुर्वेदी  इनके बारेमे   हम जानकारी लेंगे | यह पहली भारतीय महिला है जिन्होंने  भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान पहली बार चलाया  है |

बचपन

  • अवनी चतुर्वेदी इनका जन्म 27 अक्टूबर 1993 में हुआ |  इनका बचपन मध्य प्रदेश के रीवा के पास एक छोटे कस्बे में बीता है |  इनके पिता का नाम दिनकर चतुर्वेदी ऐसा है और वह एग्जिक्यूटिव इंजीनियर  है | इनकी मां एक  गृहिणी है | जबकि इनका भाईभी भारतीय सेना मे है |

पढाईAvani Chaturvedi’s Qualification

  • अवनी चतुर्वेदी इनकी शुरुआत की पढ़ाई हिंदी माध्यम से हुई है |
  • बचपन में बारहवीं तक स्कूल में यह टॉप पर आती थी |
  • पढ़ाई के साथ ही शतरंज खेलना और टेबल टेनिस खेलना भी इन को बहुत पसंद है
  • इन्होंने अपने स्कूल की शिक्षा मध्य प्रदेश के शहडोल शहर में स्थित एक छोटे से शहर में पूरी की |  बाद में राजस्थान के जयपुर से वनस्थली विद्यापीठ से इंजीनियरिंग किया |
  • यही करते समय भारतीय वायु सेना की परीक्षा भी पारित कि | उन्हें अपने महाविद्यालय के फ्लाइंग क्लब से कुछ घंटे की उड़ान का अनुभव प्राप्त हुआ जिसने उन्हें भारतीय वायुसेना में शामिल होने के लिए प्रेरित किया |

 वायुसेना में प्रवेश – Avani Chaturvedi in Indian Air Force

महिला लड़ाकू फाइटर पायलट बनने के लिए पहली बार 3 महिलाओं को वायुसेना के लड़ाकू स्क्वाड्रन में शामिल किया गया |

    • अवनी चतुर्वेदी , मोहना सिंह और भावना कंठ  यह तीन महिला है जो 2016 में औपचारिक रूप से तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर द्वारा इनको वायु सेना के कमिशन किया गया था |
      Avani Chaturvedi Motivational Stories In Hindi For Students 
      Avani Chaturvedi

       

    • 19 फरवरी 2018 को सुबह गुजरात के जामनगर से इन्होंने उड़ान भरी और सफलता पूर्वक अपना मिशन पूरा किया  |
    • और वह अकेले फाइटर एयरक्राफ्ट उड़ाने वाली भारत की पहली महिला बन गई | फाइटर प्लेन को अकेले उड़ाना पूर्ण रुप से फाइटर पायलट बनने की दिशा में पहला कदम है |
    • अपने प्रशिक्षण का 1 वर्ष पूरा होने के पश्चात वह जून में लड़ाकू  पायलट बनने जा रही है | और उसके बाद कर्नाटक के बीदर से अपने प्रशिक्षण के तीसरे चरण को पूरा करेगी |
    • उसके पश्चात वह लड़ाकू जेट विमान जैसे सुखोई और तेजस को उड़ाने में सक्षम हो जाएगी | ये एक बहुत कठिन लक्ष  है |
    • भारतीय लड़ाकू  विमान – Fighter Plane उड़ाने वाली  पहली महिला का सम्मान First Women Fighter Pilot अवनी चतुर्वेदी को  मिला है |
  • यह एक बहुत बड़ा सम्मान है | लड़ाकू विमान उडाकर उन्होंने यह सिद्ध कर दिया है कि भारतीय महिला  किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है | हम सब को अवनी चतुर्वेदी पर बहुत गर्व है |
  • हमें उनसे  प्रेरणा भी मिलती है कोई भी काम नामुमकिन नहीं होता अगर इच्छा हो तो हम कुछ भी हासिल कर सकते हैं इसलिये Avani Chaturvedi Motivational Stories In Hindi For Students इस लेख में हमने उनके बारेमे जाना|
  • ऐसेही प्रेरणा देनेवाला लेख इंद्रा नूयी का लेख हम इस श्रुंखला में पढ़ सकते है |